Breaking News
पूरी दिल्ली समेत वार्ड 64 पीतमपुरा में भी चलाया गया पोल खोल अभियान  |  दिल्ली में जलजमाव रोकने के लिए युद्धस्तर पर तैयारी कर रही है केजरीवाल सरकार, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के साथ तैयारियों का जायजा लेने के लिए की समीक्षा बैठक  |  स्केटिंग क्लास के सचिव प्रदीप रावत की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार एसएमबी इंटर कॉलेज में स्केटिंग का स्पेशल समर कैम्प  |  केजरीवाल सरकार दिल्ली वालों को जल्द देगी 100 और मोहल्ला क्लीनिकों की सौगात, डिप्टी सीएम ने बैठक कर मोहल्ला क्लीनिकों को जल्द शुरू करने के दिए निर्देश  |  माननीय शिक्षा मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने 1 करोड़ ‘डिजिटल वर्क फोर्स’ तैयार करने के लिए ‘डिजिटल स्किलिंग’ प्रोग्राम की शुरुआत  |  मुंबई का सबसे बड़ा बीटूबी कपडे का फेयर २९ और ३० जून २०२२ को होटल सहारा स्टार में आयोजित होगा  |  केवाईएस ने सेंट स्टीफंस कॉलेज से आर्ट्स फैकल्टी तक स्टीफंस कॉलेज में दाखिले के इंटरव्यू लेने के भेदभावपूर्ण फैसले के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन!  |  हिन्दूराव अस्पताल में ज़म ज़म फाउन्डेशन ने शुरू किया वरिष्ठ नागरिक सेवा स्टॉल  |  

संपादक

मूसेवाला की हत्या से सुरक्षा व्यवस्था पर गंभीर प्रश्न
 
यूपी : 5 साल में भी पूरी नहीं हो पाई JPNIC निर्माण में अनियमितताओं की जांच : महज 6% अपूर्णता के चलते क्रियाशील नहीं जो पा रहा जनता के 813 करोड़ 13 लाख फूँक चुका JPNIC प्रोजेक्ट – RTI खुलासा
 
सरकार कर वसूल करती है, मालिक नोट कमाता है और मजदूरों की जान चली जाती है
 
भाकपा-माले ने मनाया लेनिन की जयंती और पार्टी स्थापना दिवस
 
कोई धर्म किसी के धर्म को बुरा कहने की इजाजत नहीं देता
 
युद्ध कोई लड़े, वह हमारे विरुद्ध है
 
उपजा द्वारा "नए भारत का नया मीडिया" विषय पर पत्रकार संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन
नया भारत ही नए मीडिया का निर्माण कर रहा है: वाई विमला प्रति कुलपति, सीसीएसयू वैश्विक बाजार के इस दौर में पत्रकारिता को नई चुनौती का सामना करना पड़ रहा : अरुण कुमार सिंह, डिप्टी कमिश्नर स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भी लोकतंत्र को मजबूत बनाने में चौथे स्तंभ की प्रखर भूमिका में पत्रकारिता रही : शिवानंद पांडे, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी मेरठ एवं सहारनपुर मंडल
 
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे। बूढे बरगद को सब याद रहता था.. किसी का जन्म, किसी की मृत्यु तय करती, किस वर्ष शीत लहरी कितने दिन चली। शीत लहर आती लेकिन जिंदगी चलती रहती उसी शान से। यह शान थी आग। कोयल के बोलते समय ही अलाव जल जाते थे। धुएँ की चादर गाँव पर तन जाती, घने कुहरे से लड़ता धुआँ बस्ती का आकाश दीप था।
 
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे। बूढे बरगद को सब याद रहता था.. किसी का जन्म, किसी की मृत्यु तय करती, किस वर्ष शीत लहरी कितने दिन चली। शीत लहर आती लेकिन जिंदगी चलती रहती उसी शान से। यह शान थी आग। कोयल के बोलते समय ही अलाव जल जाते थे। धुएँ की चादर गाँव पर तन जाती, घने कुहरे से लड़ता धुआँ बस्ती का आकाश दीप था।
 
2022 में ज्यादा समय, धन व ऊर्जा कैसे हासिल हो
नया साल दस्तक देने वाला है। जाता हुआ साल बड़ा अजीबोगरीब रहा। सभी का जीवन अस्त व्यस्त कर गया। कुछ छीन ले गया, कुछ सिखा गया। परंतु, कई तरह के अफसोस भी छोड़ गया। जीवन पहले जैसा नहीं रहा। कुछ तो कोविड महामारी के कारण और कुछ सोशल मीडिया तथा इंटरनेट के कारण। कुछ काम आसान हुए हैं, तो बहुत कुछ कीमत भी चुकानी पड़ी है। मोबाइल और सोशल मीडिया लोगों को जितना करीब लाया है, उतना ही इसने अपनों से दूर भी कर दिया है। अब रिश्तों में पहले जैसी गर्माहट नहीं रही। हम सबको जीवन में एक निश्चित मात्रा में समय, ऊर्जा और धन मिला है। जो है उसका अधिकतक उपयोग कैसे किया जाये और जो नहीं है उसे पाया कैसे जाये, यह एक बड़ी चुनौती है, जिससे हर कोई जूझ रहा है। ऐसे में, बाजार और मीडिया है जो लगातार उन चीजों में उलझाए रखता है, जिनकी हमें आपको जरूरत ही नहीं है।
 
अखिलेश यादव पर हमला करते हुए केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि उन्हें अपना नाम बदलकर अखिलेश अली जिन्ना रख लेना चाहिए।
उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पारा लगातार चढ़ता जा रहा है। भाजपा और मुख्य विपक्षी पार्टी समाजवादी पार्टी के बीच जुबानी जंग भी तेज होते जा रही है।