Breaking News
पूरी दिल्ली समेत वार्ड 64 पीतमपुरा में भी चलाया गया पोल खोल अभियान  |  दिल्ली में जलजमाव रोकने के लिए युद्धस्तर पर तैयारी कर रही है केजरीवाल सरकार, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के साथ तैयारियों का जायजा लेने के लिए की समीक्षा बैठक  |  स्केटिंग क्लास के सचिव प्रदीप रावत की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार एसएमबी इंटर कॉलेज में स्केटिंग का स्पेशल समर कैम्प  |  केजरीवाल सरकार दिल्ली वालों को जल्द देगी 100 और मोहल्ला क्लीनिकों की सौगात, डिप्टी सीएम ने बैठक कर मोहल्ला क्लीनिकों को जल्द शुरू करने के दिए निर्देश  |  माननीय शिक्षा मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने 1 करोड़ ‘डिजिटल वर्क फोर्स’ तैयार करने के लिए ‘डिजिटल स्किलिंग’ प्रोग्राम की शुरुआत  |  मुंबई का सबसे बड़ा बीटूबी कपडे का फेयर २९ और ३० जून २०२२ को होटल सहारा स्टार में आयोजित होगा  |  केवाईएस ने सेंट स्टीफंस कॉलेज से आर्ट्स फैकल्टी तक स्टीफंस कॉलेज में दाखिले के इंटरव्यू लेने के भेदभावपूर्ण फैसले के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन!  |  हिन्दूराव अस्पताल में ज़म ज़म फाउन्डेशन ने शुरू किया वरिष्ठ नागरिक सेवा स्टॉल  |  
 
 
HACKED BY OVILESKINS HACKER AND BARCODES
26/12/2021  :  11:22 HH:MM
2022 में ज्यादा समय, धन व ऊर्जा कैसे हासिल हो
Total View  143

नया साल दस्तक देने वाला है। जाता हुआ साल बड़ा अजीबोगरीब रहा। सभी का जीवन अस्त व्यस्त कर गया। कुछ छीन ले गया, कुछ सिखा गया। परंतु, कई तरह के अफसोस भी छोड़ गया। जीवन पहले जैसा नहीं रहा। कुछ तो कोविड महामारी के कारण और कुछ सोशल मीडिया तथा इंटरनेट के कारण। कुछ काम आसान हुए हैं, तो बहुत कुछ कीमत भी चुकानी पड़ी है। मोबाइल और सोशल मीडिया लोगों को जितना करीब लाया है, उतना ही इसने अपनों से दूर भी कर दिया है। अब रिश्तों में पहले जैसी गर्माहट नहीं रही। हम सबको जीवन में एक निश्चित मात्रा में समय, ऊर्जा और धन मिला है। जो है उसका अधिकतक उपयोग कैसे किया जाये और जो नहीं है उसे पाया कैसे जाये, यह एक बड़ी चुनौती है, जिससे हर कोई जूझ रहा है। ऐसे में, बाजार और मीडिया है जो लगातार उन चीजों में उलझाए रखता है, जिनकी हमें आपको जरूरत ही नहीं है।

फिर किया क्या जाये? इसी ऊहापोह में मैंने सोचा कि चलो इस बार 'लैस इज मोर' का नियम अपनाया जाये। कम से कम चीजों के साथ जीना सीखा जाये, यानी अनुपयोगी चीजों और विचारों को गुडबाय कहा जाये और जीवन के लिए महत्वपूर्ण बातों पर गौर फरमाया जाये। विचारकों की भाषा में इसे मिनिमलिज्म अथवा न्यूनतावाद कहा जाता है। जैसे सफर में कम सामान लेकर निकला जाये तो सहूलियत होती है, वैसे ही जीवन की यात्रा में भी फालतू चीजों को हटाते चलने से राह आसान हो जाती है। इस सिद्धांत का अधिकतम लाभ उठाने के लिए, हमें इस पर विचार करना होगा कि हम प्रत्येक दिन कैसे जी रहे हैं। हम अपना दिन कैसे बिताते हैं, निश्चित रूप से, इसी से तय होता है कि हम अपना जीवन कैसे व्यतीत करते हैं। यह वास्तव में आपके जीवन में महत्वपूर्ण चीज़ों को प्राथमिकता देने में आपकी मदद करने वाला एक टूल है।
'बीइंग मिनिमलिस्ट' के जोशुआ बेकर के शब्दों में "मिनिमलिज्म का अर्थ उन चीजों को महत्व देना है जो आपको खुशी देती हैं।" कम से कम चीजों के साथ जीवन का यह सिद्धांत हर कोई अपने जीवन में लागू कर सकता है और इससे भरपूर लाभ उठा सकता है। इसकी शुरुआत छोटे छोटे कदमों से की जा सकती है, जैसे कि अपने घर की आलमारियों से बारी बारी फालतू चीजों को हटाते चलना और काम की चीजों को व्यवस्थित करते चलना। मॉल, मेले, ऑनलाइन और दुकानों से ऐसी चीजें मत खरीदिए जिनकी आपको जरूरत नहीं है, भले ही कितनी ही बड़ी सेल या ऑफर क्यों न दिया जा रहा हो। परंतु वे चीजें अवश्य खरीदी जायें जिनकी आपको नये लक्ष्य प्राप्त करने के लिए आवश्यकता है। कोई भी बड़ा बदलाव रातोंरात नहीं हो जाता, धीरे धीरे घर से फालतू चीजें हटाइए और आपको अपना घर पहले से अधिक सुकून देने वाला लगने लगेगा। इस सिद्धांत को एक फिल्टर मानिए जो अनावश्यक चीजों, विचारों और लोगों की छंटनी करेगा, और आप अपने मनचाहे लाइफस्टाइल के करीब पहुंचते जायेंगे। एक साफ सुथरे घर में रहना, जहां हर चीज व्यवस्थित हो, संतुलित हो, बहुत शांतिदायक और सुकून भरा हो सकता है। जीवन में विष घोलने वाले रिश्तों और लोगों से भी दूरी बनाइए। साथ ही मोबाइल फोन, ऐप्स और सोशल मीडिया को भी सीमित कीजिए, ताकि आपको अधिक और क्वालिटी टाइम मिल सके।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4507047
 
     
Related Links :-
मूसेवाला की हत्या से सुरक्षा व्यवस्था पर गंभीर प्रश्न
यूपी : 5 साल में भी पूरी नहीं हो पाई JPNIC निर्माण में अनियमितताओं की जांच : महज 6% अपूर्णता के चलते क्रियाशील नहीं जो पा रहा जनता के 813 करोड़ 13 लाख फूँक चुका JPNIC प्रोजेक्ट – RTI खुलासा
सरकार कर वसूल करती है, मालिक नोट कमाता है और मजदूरों की जान चली जाती है
भाकपा-माले ने मनाया लेनिन की जयंती और पार्टी स्थापना दिवस
कोई धर्म किसी के धर्म को बुरा कहने की इजाजत नहीं देता
युद्ध कोई लड़े, वह हमारे विरुद्ध है
उपजा द्वारा "नए भारत का नया मीडिया" विषय पर पत्रकार संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे
अखिलेश यादव पर हमला करते हुए केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि उन्हें अपना नाम बदलकर अखिलेश अली जिन्ना रख लेना चाहिए।