समाचार ब्यूरो
09/03/2023  :  18:38 HH:MM
ग्लूकोमा मोतियाबिंद के बाद नेत्रहीनता का दूसरा सबसे बड़ा कारण
Total View  952

इस बार विश्व ग्लूकोमा सप्ताह के अवसर पर एलर्जन, एन एबवी कंपनी ऑफ्थेल्मोलॉजी के क्षेत्र में प्रसिद्ध विशेषज्ञों के साथ ग्लूकोमा से आँखों को होने वाले नुकसान को रोकने के लिए समय पर ग्लूकोमा की पहचान और इलाज के महत्व पर बल दे रही है।

नयी दिल्ली- ग्लूकोमा मोतियाबिंद के बाद विश्व में नेत्रहीनता का दूसरा सबसे बड़ा कारण होने के बावजूद इसका ज्यादातर निदान नहीं हो पाता है और 90 प्रतिशत से ज्यादा मामलों में मरीज इलाज से वंचित रह जाता है जो एक बड़ी चिंता का विषय है।

इस बार विश्व ग्लूकोमा सप्ताह के अवसर पर एलर्जन, एन एबवी कंपनी ऑफ्थेल्मोलॉजी के क्षेत्र में प्रसिद्ध विशेषज्ञों के साथ ग्लूकोमा से आँखों को होने वाले नुकसान को रोकने के लिए समय पर ग्लूकोमा की पहचान और इलाज के महत्व पर बल दे रही है। इन विशेषज्ञों ने इसके जोखिम और रोकथाम की तकनीकों के लिए आवश्यक उपायों पर रोशनी डाली तथा इसके इलाज के क्षेत्र में हुई नवीन प्रगति को लेकर परिचर्चा का आयोजन किया जिसमें विशेषज्ञों ने यह बात कही।
इसमें बताया गया कि 2012 के आँकड़ों के मुताबिक दुनिया में इसकी वजह से 45लाख लोग नेत्रहीनता का शिकार हुए हैं, जबकि भारत में ग्लूकोमा के 1.2 करोड़ पीड़ितों में से लगभग 12लाख लोग नेत्रहीन हो चुके हैं। इसके बावजूद ग्लूकोमा का ज्यादातर निदान नहीं हो पाता है, और 90 प्रतिशत से ज्यादा मामलों में मरीज इलाज से वंचित रह जाता है। यह पूरे देश के लिए एक बड़ी चिंता का विषय है। इसकी वजह से नेत्रहीनता बढ़ने और स्थायी नेत्रहीनता होने के कारण ग्लूकोमा की पहचान और इलाज समय पर होना बहुत जरूरी है।
ग्लूकोमा आँखों की एक गंभीर बीमारी है, जिसका इलाज न होने पर स्थायी रूप से नेत्रहीनता हो सकती है। यह बीमारी आँखों से मस्तिष्क तक विज़्युअल जानकारी पहुँचाने वाली ऑप्टिक नर्व को क्षतिग्रस्त कर देती है। ग्लूकोमा धीरे-धीरे लंबे समय तक बढ़ता है, और पेरिफेरल दृष्टि को धीरे-धीरे कम करता चला जाता है, जिसका इलाज न किए जाने पर नेत्रहीनता हो सकती है।
विश्व ग्लूकोमा सप्ताह हर साल मार्च माह में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य समय पर ग्लूकोमा की पहचान और इलाज के महत्व के बारे में जागरुकता बढ़ाना है। विश्व ग्लूकोमा सप्ताह एक महत्वपूर्ण मंच प्रदान करता है, जहाँ ग्लूकोमा के कारण जनस्वास्थ्य को होने वाले नुकसान की ओर ध्यान आकर्षित किया जा सके, और दृष्टिहीनता को रोकने के लिए आँखों के बेहतर स्वास्थ्य पर बल दिया जा सके। यह सप्ताह हमें ग्लूकोमा की रोकथाम, निदान, और इलाज के प्रयास बढ़ाए जाने की जरूरत का स्मरण कराता है, ताकि इस विनाशकारी नेत्र रोग के पीड़ित लोगों व समुदायों का उज्जवल भविष्य सुनिश्चित हो सके।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   4501633
 
     
Related Links :-
भोजन से पहले बादाम सेवन से प्री-डायबिटीज लोगों के ब्लड शुगर में हो सकता है सुधार
कोविड-19 पर पीआईबी का बुलेटिन
कोविड-19 पर पीआईबी का बुलेटिन
डॉ मनसुख मंडाविया ने भारत के कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम पर प्रकाश डालने वाले प्रतिस्पर्धात्मकता संस्थान की रिपोर्ट जारी की
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने सफदरजंग अस्पताल का दौरा किया, अस्पताल में सुधार उपायों पर विभाग के अध्यक्षों और कर्मचारियों की स्पष्ट प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए उनके साथ अनौपचारिक बातचीत की
उपराष्ट्रपति ने अच्छे स्वास्थ्य और बेहतर रहन-सहन के लिए शुद्ध पेयजल और स्वच्छता के महत्व पर ज़ोर दिया
राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 टीके की उपलब्‍धता
कोविड-19 टीकाकरण पर अपडेट- 403वां दिन
राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 टीके की उपलब्‍धता
निशुल्क स्वास्थ्य एवं नेत्र जांच शिविर लगाया