समाचार ब्यूरो
14/05/2022  :  18:31 HH:MM
सरकार कर वसूल करती है, मालिक नोट कमाता है और मजदूरों की जान चली जाती है
Total View  1580


मुंडका में एक सीसीटीवी कैमरा बनाने वाली फैक्ट्री में लगी आग में दो दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हुई, यह एक दर्दनाक हादसा है। दिल्ली मे आये दिन आग लगने के हादसे होते रहते हैं जिसमें जानें चली जाती हैं। दिल्ली सरकार की ऐसी दुर्घटनाओं से बचने की कोई योजना नहीं है। इस तरह की दुर्घटनाओं से सीख लेना चाहिए। यह विचार ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्त्तेहादुल मुस्लिमीन दिल्ली के अध्यक्ष कलीमुल हफ़ीज़ ने प्रेस को जारी एक ब्यान मे व्यक्त किए। उन्होनें कहा कि ये दुर्घटनाएं भ्रष्टाचार के कारण होती हैं। सरकार टैक्स वसूलती है, मालिक नोट कमाता है और मजदूरों की जान चली जाती है। मुंडका मामले में इस बात की जांच होनी चाहिए कि आग बुझाने वाले यंत्र थे या नहीं, कंपनी के मालिक के पास एनओसी थी या नहीं। ऐसी इमारतों में दुर्घटना की स्थिति में बचने के लिए आपातकालीन निकास व ज़ीना होना चाहिए। कलीमुल हफ़ीज ने कहा कि मानव जीवन की सुरक्षा सरकारों की पहली जिम्मेदारी है, लेकिन सरकारें नागरिकों के कल्याण के बजाय धर्म की राजनीति कर रही हैं। पीड़ितों के शोक संतप्त परिवारों के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हुए मजलिस अध्यक्ष ने दिल्ली सरकार पर उन्हें कम मुआवज़ा देने का आरोप लगाया और कहा कि दस लाख रुपये का मुआवजा उनका अपमान है। कम से कम पचास लाख का मुआवज़ा प्रत्येक परिवार को दिया जाना चाहिए। दुर्घटना में मृत व्यक्ति के परिवार से किसी एक व्यक्ति को नौकरी दी जानी चाहिए। दुर्घटना में घायल हुए लोगों का इलाज सरकार के खर्चे पर किया जाए और उनके घर का पूरा खर्च तब तक वहन किया जाए जब तक वे काम करने की स्थिति में न हों। दुर्घटना की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए और इस जांच की रिपोर्ट प्रकाशित की जानी चाहिए। अभी तक दिल्ली सरकार ने कोई जांच रिपोर्ट जनता के लिए प्रकाशित नहीं की है, न ही किसी अपराधी को दंडित किया गया है। यदि अपराधी को दंडित कर दिया जाए तो ऐसी दुर्घटनाओं को कम किया जा सकता है। और भविष्य में इस तरह की दुर्घटनाओं को रोकने के लिए योजनाए बनानी चाहिए।






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3241888
 
     
Related Links :-
मूसेवाला की हत्या से सुरक्षा व्यवस्था पर गंभीर प्रश्न
यूपी : 5 साल में भी पूरी नहीं हो पाई JPNIC निर्माण में अनियमितताओं की जांच : महज 6% अपूर्णता के चलते क्रियाशील नहीं जो पा रहा जनता के 813 करोड़ 13 लाख फूँक चुका JPNIC प्रोजेक्ट – RTI खुलासा
भाकपा-माले ने मनाया लेनिन की जयंती और पार्टी स्थापना दिवस
कोई धर्म किसी के धर्म को बुरा कहने की इजाजत नहीं देता
युद्ध कोई लड़े, वह हमारे विरुद्ध है
उपजा द्वारा "नए भारत का नया मीडिया" विषय पर पत्रकार संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे
2022 में ज्यादा समय, धन व ऊर्जा कैसे हासिल हो
अखिलेश यादव पर हमला करते हुए केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि उन्हें अपना नाम बदलकर अखिलेश अली जिन्ना रख लेना चाहिए।