Breaking News
पूरी दिल्ली समेत वार्ड 64 पीतमपुरा में भी चलाया गया पोल खोल अभियान  |  दिल्ली में जलजमाव रोकने के लिए युद्धस्तर पर तैयारी कर रही है केजरीवाल सरकार, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के साथ तैयारियों का जायजा लेने के लिए की समीक्षा बैठक  |  स्केटिंग क्लास के सचिव प्रदीप रावत की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार एसएमबी इंटर कॉलेज में स्केटिंग का स्पेशल समर कैम्प  |  केजरीवाल सरकार दिल्ली वालों को जल्द देगी 100 और मोहल्ला क्लीनिकों की सौगात, डिप्टी सीएम ने बैठक कर मोहल्ला क्लीनिकों को जल्द शुरू करने के दिए निर्देश  |  माननीय शिक्षा मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने 1 करोड़ ‘डिजिटल वर्क फोर्स’ तैयार करने के लिए ‘डिजिटल स्किलिंग’ प्रोग्राम की शुरुआत  |  मुंबई का सबसे बड़ा बीटूबी कपडे का फेयर २९ और ३० जून २०२२ को होटल सहारा स्टार में आयोजित होगा  |  केवाईएस ने सेंट स्टीफंस कॉलेज से आर्ट्स फैकल्टी तक स्टीफंस कॉलेज में दाखिले के इंटरव्यू लेने के भेदभावपूर्ण फैसले के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन!  |  हिन्दूराव अस्पताल में ज़म ज़म फाउन्डेशन ने शुरू किया वरिष्ठ नागरिक सेवा स्टॉल  |  
 
 
HACKED BY OVILESKINS HACKER AND BARCODES
22/04/2022  :  16:41 HH:MM
भाकपा-माले ने मनाया लेनिन की जयंती और पार्टी स्थापना दिवस
Total View  141


भाकपा-माले की स्थापना की 53 वीं वर्षगांठ और बोलशेविक क्रांति के नेता काॅ. लेनिन की 152 वीं जयंती आज पूरे राज्य में मनाई गई. विदित हो कि लेनिन के जन्म दिन पर ही भाकपा-माले की स्थापना हुई थी. राजधानी पटना सहित पूरे राज्य में पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा कार्यालयों, गांवों व अन्य स्थानों पर पार्टी का झंडोत्तोलन किया गया तथा केंद्रीय कमिटी की ओर से जारी 22 अप्रैल के संकल्प का पाठ किया गया. राजधानी पटना में राज्य कार्यालय, दीघा, विधायक आवास 11 नंबर, चितकोहरा, भोला पासवान शास्त्री नगर, कंकड़बाग आदि स्थानों पर पार्टी स्थापना दिवस मनाया गया. राज्य कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में माले राज्य सचिव कुणाल, वरिष्ठ पार्टी नेता केडी यादव, राजाराम, प्रो. संतोष कुमार, प्रो. भारती एस. कुमार, संतोष सहर, विधायक सुदामा प्रसाद, कमलेश शर्मा, उमेश सिंह, समता राय, विभा गुप्ता, सहित कई पार्टी कार्यकर्ता शामिल हुए. चितकोहरा में फुलवारी विधायक गोपाल रविदास, माले नेता मुर्तजा अली आदि के नेतृत्व में कार्यक्रम हुआ. वहीं दीघा में केंद्रीय कमिटी की सदस्य शशि यादव कार्यक्रम में शामिल हुईं. राज्य कार्यालय में सबसे पहले पार्टी झंडोत्तोलन किया गया. यह झंडोत्तोलन पार्टी राज्य सचिव कुणाल ने की. उसके बाद काॅमरेड लेनिन को पुष्पांजलि दी गई. 22 अप्रैल के संकल्प का पाठ किया गया. इस मौके पर माले राज्य सचिव ने कहा कि हम आज के दिन सभी कठिनाइयों का सामना करते हुए लोकतंत्र और आम लोगों के अधिकारों की लड़ाई को आगे बढ़ाने के पार्टी के संकल्प लेते हैं. पिछले दो साल कोविड-19 महामारी और इससे निपटने के नाम पर राज्य द्वारा लागू किए गए निर्मम लॉकडाउन के साए में रहे. इसके बावजूद, भारत की आम जनता और हमारी पार्टी ने कई बुनियादी मांगों और अधिकारों के लिए सफलतापूर्वक संघर्ष किये हैं. ऐतिहासिक किसान आंदोलन ने मोदी सरकार को कॉरपोरेट-हितों को साधने के लिए लाए गए कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए मजबूर किया है. बटाईदारों सहित सभी वर्गों के किसानों के लिए सभी फसलों पर उचित एमएसपी, मेहनतकश जनता पर लादे गए सभी कर्जों को समाप्त करने के लिए, मजदूर वर्ग और नौकरी खोजने वालों के लिए सुरक्षित नौकरी और उचित मजदूरी और सार्वजनिक संपत्ति को बेचने व मुट्ठी भर कॉर्पोरेटों को सौंप देने पर रोक लगाने के लिए लड़ाई अभी भी जारी है. हर चुनावी जीत भाजपा और संघ ब्रिगेड को अपने फासीवादी हमले को तेज करने के लिए बढ़ावा देती है. 2019 की जीत के बाद, मोदी सरकार ने तुरंत ही अनुच्छेद 370 को समाप्त कर दिया, जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बाँट दिया और नागरिकता अधिनियम में संशोधन किया. इस बार, यूपी, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में बीजेपी की जीत के बाद, वे गैर-बीजेपी सरकारों को अस्थिर करने और बिहार जैसे राज्यों में अपना नियंत्रण दृढ़ करने की कोशिश कर रही है जहां बीजेपी लंबे समय से नीतीश कुमार को अपने चेहरे या मुखौटे के रूप में इस्तेमाल कर रही है. सरकार ने एक तरफ तो ईंधन, भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में लगातार भारी बढ़ोतरी करके आम लोगों पर आर्थिक युद्ध तेज कर दिया है, साथ ही नफरत और भय का माहौल बनाकर और हिंसा भड़काकर लोगों का सांप्रदायिक ध्रुवीकरण भी कर रही है. वक्ताओं ने कहा कि जैसे-जैसे संकट गहराता जा रहा है, लोगों को हतोत्साहित किया जा रहा है और भाजपा शासन और आरएसएस की विचारधारा को भारत के लिए अपरिहार्य नियति के रूप में स्वीकार करने के लिए धमकाया जा रहा है. लेकिन भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ हमें हमारे स्वतंत्रता आंदोलन की शक्तिशाली क्रांतिकारी विरासत और भगत सिंह, अम्बेडकर और पेरियार और उनसे पहले के उपनिवेशवाद विरोधी-जाति विरोधी समाज सुधारकों द्वारा प्रज्वलित एक स्वतंत्र, प्रगतिशील और समतामूलक भारत बनाने के महान सपनों की याद दिला रही है. स्वतंत्रता, न्याय और लोकतंत्र की लड़ाई को तेज करके उस विरासत को आगे बढ़ाने और भारत को फासीवादी चंगुल से मुक्त कराने की जिम्मेदारी अब हम पर है. इसके लिए सभी वामपंथी, प्रगतिशील और लड़ने वाली ताकतों की हमें एक मजबूत एकता बनाने और आम लोगों के एजेंडे और संघर्षों को चुनावी क्षेत्र में एक शक्तिशाली दावेदारी की ओर की जरूरत है. पार्टी कार्यकर्ताओं ने आज के दिन भाकपा-माले को भारत में फासीवाद-विरोधी प्रतिरोध की एक जीवंत, प्रतिबद्ध और शक्तिशाली ताकत के रूप में स्थापित करने का संकल्प लिया. प्रो. संतोष कुमार ने अपने वक्तव्य में नौजवान तबके को ज्यादा से ज्यादा संगठन से जोड़ने पर जोर दिया, वहीं प्रो. भारती एस कुमार ने महिला कार्यकर्ताओं को सामने लाने पर जोर दिया.






Enter the following fields. All fields are mandatory:-
Name :  
  
Email :  
  
Comments  
  
Security Key :  
   3057700
 
     
Related Links :-
मूसेवाला की हत्या से सुरक्षा व्यवस्था पर गंभीर प्रश्न
यूपी : 5 साल में भी पूरी नहीं हो पाई JPNIC निर्माण में अनियमितताओं की जांच : महज 6% अपूर्णता के चलते क्रियाशील नहीं जो पा रहा जनता के 813 करोड़ 13 लाख फूँक चुका JPNIC प्रोजेक्ट – RTI खुलासा
सरकार कर वसूल करती है, मालिक नोट कमाता है और मजदूरों की जान चली जाती है
कोई धर्म किसी के धर्म को बुरा कहने की इजाजत नहीं देता
युद्ध कोई लड़े, वह हमारे विरुद्ध है
उपजा द्वारा "नए भारत का नया मीडिया" विषय पर पत्रकार संगोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे
आग केवल जलाती नहीं रिश्ते जोड़ती है। शीत ऋतु की आग में जीवन होता, भाईचारा होता। शीत की गहराई मशीन नहीं प्रकृति बताती है। पहले सेंटीग्रेड नहीं था पर ठिठुरते पशु पक्षी ताप बता देते थे
2022 में ज्यादा समय, धन व ऊर्जा कैसे हासिल हो
अखिलेश यादव पर हमला करते हुए केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि उन्हें अपना नाम बदलकर अखिलेश अली जिन्ना रख लेना चाहिए।